Sunday 26 Jun 2022 14:34 PM

13 (तेरह) नबंर का कमरा क्यों नहीं होता होटलों में , जानिए इसके पीछे का रहस्य

13 (तेरह) नबंर का कमरा क्यों नहीं होता होटलों में , जानिए इसके पीछे का रहस्य

( 13) तेरह नबंर का कमरा क्यों नहीं होता होटलों में , जानिए इसके पीछे का रहस्य


  • राज्य / प्रदेश । अगर आप बहुत ज्यादा ट्रैवल करते हैं और आपको आए दिन होटल में रूकना पड़ता है। तो आपने एक चीज पर गौर किया होगा।

  • अगर नहीं किया है तो हम बता देते हैं। किसी भी होटल में 13 नंबर का कोई कमरा नहीं होता।

  • जी हां यह बिल्कुल सच है। इसके पीछे की वजह क्या है आज हम यही जानेंगे।
  • 13 नंबर का माना जाता है अशुभ

दरअसल, पश्चिमी देशों में 13 नबंर को अशुभ माना जाता है।

  • वहां के लोगों में 13 अंक को लेकर काफी डरे रहते हैं। इसलिये पश्चिमी देशों के होटल में न तो 13 नबंर का कमरा होता है और न ही 13वीं मंज़िल।

12वीं के बाद सीधी 14वीं मंज़िल (Flor) आ जाती है। पश्चिमी देशों को देखते हुए भारत के हॉटल भी 13 नंबर का कमरा नहीं रखते।

  • ये भी है दावा

वही कुछ मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, एक बार यीशु मसीह को किसी व्यक्ति ने धोखा दिया था। ये वही व्यक्ति था, जिसने उनके साथ बैठकर खाना भी खाया था।

  • विश्वासघात करने वाला वो व्यक्ति 13 नबंर की कुर्सी पर बैठा हुआ था। इस घटना के बाद से यूरोप, अमेरिका सहित कई देशों में 13 नबंर को अशुभ माना जाने लगा

और लोग 13 नबंर को लेकर दूर ही रहने लगे।

  • 13 नंबर से लगने वाले डर को क्या कहा जाता है?

भारत में होटल ऐसा इसलिए करते हैं। क्योंकि अधिकतर होटल Foreign Tourist को ध्यान में रख कर बनाये जाते हैं।

  1. इसलिये यहां के होटल में भी 13 नबंर का कोई कमरा नहीं बनाया जाता है। 13 नबंर से लगने वाले इस डर को Triskaidekaphobia कहा जाता है।

वहीं अगर फ़्रांस की बात करें, तो वहां खाने की टेबल पर 13 कुर्सियों का होना अनलकी माना जाता है।

  • चंडीगढ़ में सेक्टर 13 नहीं है

यही नहीं, भारत में चंडीगढ़ ऐसा शहर है,

  • जहां सेक्टर 13 नहीं है। ऐसा इसलिए क्यों कि शहर का जिसने नक्शा तैयार किया था वो विदेश का था

और वो 13 नंबर को अशुभ मानता था। आज भी चंडीगढ़ में सेक्टर 13 नहीं है।

हालाँकि प्रकाश प्रभाव इनमे से किसी भी बात का बढ़ावा नही देता है।

  • रिपोर्ट / मध्यप्रदेश क्राइम हेड
Comments

Leave A Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *