Saturday 06 Mar 2021 16:02 PM

Breaking News:

आधी रात ट्रैक्टरों को रेला बार्डर से इंट्री होता देख पुलिस के फूले हाथ पांव

आधी रात ट्रैक्टरों को रेला बार्डर से इंट्री होता देख पुलिस के फूले हाथ पांव

crime news, apradh samachar

PPN NEWs

आधी रात ट्रैक्टरों को रेला बार्डर से इंट्री होता देख पुलिस के फूले हाथ पांव 


जिसका डर था वही हुआ. दिल्ली पुलिस और किसान नेताओं के बीच 6-7 दिन से ट्रैक्टर रैली को लेकर चल रही धींगामुश्ती-माथापच्ची अब से कुछ देर पहले (सोमवार-मंगलवार को आधी रात के बाद) धरी की धरी रह गयी. हुआ यूं कि दिल्ली पुलिस और किसानों के बीच तय था कि, रैली में शामिल होने आये ट्रैक्टरों का रेला किसी भी कीमत पर बिना दिल्ली पुलिस की हरी झंडी के राजधानी की सीमा में प्रवेश नहीं करेगा. इसके बाद भी उत्तर-पूर्वी दिल्ली जिले के लोनी बार्डर पर उस वक्त भगदड़ का सा माहौल पैदा हो गया, जब किसानों की एक बड़ी तादाद ने अचानक ही ट्रैक्टरों की एक बड़ी खेप दिल्ली की सीमा में अचानक घुसा डाली.

रात तड़के करीब सवा तीन बजे (मंगलवार तड़के) लोनी बार्डर पर इसे लेकर पुलिस और किसान आमने-सामने आ गये.

पुलिस को यह अंदेशा जरा भी नहीं था कि, अचानक कोई ऐसी स्थिति बन पड़ेगी, जिसके चलते किसान ट्रैक्टरों को लेकर आधी रात को ही राजधानी की सीमा में घुस पड़ेंगे. घटनाक्रम और प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक, “दिल्ली और यूपी (गाजियाबाद) पुलिस इस गफलत में थी कि, किसान वही करेंगे जो, जब और जैसा दोनो राज्यों की पुलिस चाहेगी.”

हो मगर पुलिस की इस तमाम प्लानिंग या फिर पहले से बनाई-सोची रणनीति के एकदम उलट गया. वो भी आधी रात को अचानक. हांलांकि एहतियातन पुलिस ने सुरक्षा बल तैनात कर रखे थे. मगर इस इरादे से या फिर उतनी संख्या में यह बल पर्याप्त नहीं था जो, जबरन ट्रैक्टर रैली के राजधानी में घुसने पर हालात काबू कर सकें. विशेषकर दिल्ली पुलिस का सोचना था कि, जब किसान नेताओं से सब बात तय हो चुकी है. तो ऐसे में भगदड़ जैसी आशंका की गुंजाईश बाकी बचती ही नहीं.


अतिरिक्त पुलिस भेजी गई

स्थिति तब अचानक पलट गयी जब, लोनी बार्डर पर मौजूद किसानों ने पुलिस से बात करते-करते ट्रैक्टरों का लंबा रेला दिल्ली की सीमा में प्रवेश करा दिया. हांलांकि मौके पर मौजूद दिल्ली पुलिस और सुरक्षा बलों ने अपनी हरसंभव कोशिश की. ट्रैक्टरों का सीधे-सीधे सामना कर पाने की हिम्मत मगर किसी की न होनी थी न हुई. लिहाजा मौके पर मौजूद सुरक्षा बलों ने अचानक बदले हालातों की जानकारी तत्काल दिल्ली पुलिस के आला अफसरों को दी. सूचना मिलते ही अतिरिक्त पुलिस और अर्धसैनिक बल मौके के लिए रवाना कर दिया गया.

सबसे बड़ी मुसीबत यह है कि, जब तक चाहे कितनी भी जल्दी क्यों न सही, अतिरिक्त पुलिस और सुरक्षा बल मौके पर पहुंचे, तो वो अब क्या करेगी? जिन किसानों और ट्रैक्टरों को दिल्ली में वक्त से पहले नहीं घुसना था, वे तो चाहे जैसे भी सही घुस ही चुके हैं. हालांकि, दिल्ली पुलिस के सूत्र बताते हैं कि, ऐसी कोई विशेष घटना नहीं घटी है. न ही भगदड़ जैसी कोई बात है. कुछ किसान आधी रात के बाद ही दिल्ली की सीमा में ट्रैक्टर लेकर घुसने की जिद पर अड़े हुए थे. उन्हें समझा-बुझा दिया गया है.


किसानों का आना जारी

उधर रात सवा तीन बजे (मंगलवार तड़के) के करीब खबर लिखे जाने तक भी नेशनल हाईवे-9 (24) पर ट्रैक्टरों और किसानों का आना जारी है. किसानों का रेला तो आ ही रहा है. वे हाईवे पर ढोल नगाड़े बजाकर खुद का मनोरंजन भी कर रहे हैं. ताकि इस कड़कड़ाती सर्दी में कम से कम किसी तरह से तो मुसीबत की यह रात गुजर जाये. किसानों को दिन निकलते के इंतजार में इस वक्त एक-एक मिनट भारी गुजर रहा है. कभी-कभी जोश में आकर यह किसान नारे भी लगा रहे हैं.

जो किसान लंबे समय से दिल्ली-गाजीपुर बार्डर पर डेरा जमाये हैं, उन्होंने तो रुकने का इंतजाम टेंटों में कर रखा है. सोमवार से दिल्ली की सीमाओं पर ट्रैक्टरों सहित रैली में हिस्सा लेने पहुंच रहे किसानों की हालत ठंड से खराब है. हांलांकि सैकड़ों ट्रैक्टरों पर तिरपाल की छत का इंतजाम भी है. मगर सैकड़ों की ही तादाद ऐसे ट्रैक्टरों की भी देखने को मिल रही है, जिन पर ठंड से बचाव का कोई उपाय नहीं है.

‘किसानों को किया गया बाहर’

दूसरी ओर मौके पर मौजूद दिल्ली और यूपी पुलिस के अधिकारियों का कहना था कि, किसानों ने ट्रैक्टरों के साथ बस दिल्ली की सीमा में घुसने की कोशिश भर की थी. जब उन्हें समझाया गया तो वे मान गये. जो नहीं मान रहे थे, उन्हें जिस रास्ते से वे घुसने की कोशिश में थे, उसके बजाये दूसरे रास्ते (भोपुरा रोड) से वापिस दिल्ली से बाहर कर दिया गया है.


अन्य एंट्री प्वाइंट्स पर सख्ती

लोनी बार्डर पर हुए इस बबाल के बाद दिल्ली की सभी सीमाओं पर तैनात पुलिस और अर्धसैनिक बल को वायरलेस मैसेज देकर अलर्ट कर दिया गया है, ताकि लोनी बार्डर की सी परिस्थिति कहीं किसी और एंट्री प्वाइंट पर पैदा न हो जाएं. साथ ही लोनी बार्डर पर सामने आयी समस्या से सबक लेकर दिल्ली पुलिस ने सीलमपुर और सिग्नेचर ब्रिज तक पहुंचने 

Comments

Leave A Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *